बनवारी गिरधारी अब राखो लाज हमारी लिरिक्स

बनवारी गिरधारी,
अब राखो लाज हमारी,
लाज ही है अब मुझ निर्धन की,
जीवन पूँजी सारी,
बनवारीं गिरधारी,
अब राखो लाज हमारी।।

तर्ज – रखवाला प्रतिपाला।



सरे बाज़ार में आज ऐ बाबा,

लुट रही लाज हमारी,
चुप बैठे दीनो के नाथ तुम,
फिकर नहीं क्या हमारी,
अब तो हमको मोहन बस एक,
आस लगी है तुम्हारी,
बनवारीं गिरधारी,
अब राखो लाज हमारी।।



तेरे द्वार पे ओ सांवरिया,

आते है लाज के मारे,
मेरी लाज का तू रखवाला,
तुझको ही आज पुकारें,
तू भी जो अनसुनी करेगा,
कौन सुनेगा हमारी,
बनवारीं गिरधारी,
अब राखो लाज हमारी।।



रागी की लाज पे जब जब आई,

दौड़े हो तुम ही कन्हैया,
बिन पतवार के डूब गई जो,
दरश की लाज की नैया,
कहाँ गए तेरे मोहन पगली,
पूछेगी दुनिया सारी,
बनवारीं गिरधारी,
अब राखो लाज हमारी।।



बनवारी गिरधारी,

अब राखो लाज हमारी,
लाज ही है अब मुझ निर्धन की,
जीवन पूँजी सारी,
बनवारीं गिरधारी,
अब राखो लाज हमारी।।

Singer – Amit Kalra ‘Meetu’


escort bodrum
escort istanbul bodrum escortlarescort izmirdeneme bonusupuff satın alTrans ParisEscort Londonizmir escort bayanUcuz Takipçi Satın AlElitbahisBetandreasligobettempobettempobet sorunsuzonwin girişOnwinfethiye escortSahabet Girişgobahissahabetshakespearelane